Fandom

Hindi Literature

सजल स्नेह का भूषण केवल / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER सजल स्नेह का भूषण केवल

सरल प्रेम की सुंदरता;

छिपी मर्म-सी कोमल

उर में सहज, मिलन की आतुरता ।


ओठों पर विषाद की दृढ़ता,

पलकों में आगत के प्रश्न;

साँसों में स्वर बढ़ता

करुणा का; अलकों में भावी स्वप्न ।


सहसा आ सम्मुख चुपचाप

संध्या की प्रतिमा-सी मौन

करती प्रेमालाप,

प्रेयसि नहीं, परिचिता-सी वह कौन ?


कर्मों की छाया-सी गूढ़

मन की गोचर स्त्रीत्व अतीत,

स्नेह रही है ढूँढ--

धूमिल-सी है यद्यपि स्नेह-प्रतीती ।


मेरे अंतर में भर जाती

केवल अपना करुणा-राग:

वह अजान सुलगाती

क्यों नव यौवन में अबोध वैराग ?


( १९३४ में लिखित )

Also on Fandom

Random Wiki