Fandom

Hindi Literature

सपने की कविता / मंगलेश डबराल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


सपने उन अनिवार्य नतीजों में से हैं जिन पर हमारा कोई नियंत्रण

नहीं होता । वे हमारे अर्धजीवन को पूर्णता देने के लिए आते हैं । सपने

में ही हमें दिखता है कि हम पहले क्या थे या कि आगे चलकर क्या

होंगे । जीवन के एक गोलार्ध में जब हम हाँफते हुए दौड़ लगा रहे

होते हैं तो दूसरे गोलार्ध में सपने हमें किसी जगह चुपचाप सुलाए

रहते हैं ।


सपने में हमें पृथ्वी गोल दिखाई देती है जैसा कि हमने बचपन की

किताबों में पढ़ा था । सूरज तेज़ गर्म महसूस होता है और तारे अपने

ठंढे प्रकाश में सिहरते रहते हैं । हम देखते हैं चारों ओर ख़ुशी के पेड़ ।

सामने से एक साइकिल गुज़रती है या कहीं से रेडियो की आवाज़

सुनाई देती है । सपने में हमें दिखती है अपने जीवन की जड़ें साफ़

पानी में डूबी हुईं । चाँद दिखता है एक छोटे से अँधेरे कमरे में चमकता

हुआ ।


सपने में हम देखते हैं कि हम अच्छे आदमी हैं । देखते हैं एक पुराना

टूटा फूटा आईना । देखते हैं हमारी नाक से बहकर आ रहा ख़ून ।


(1990)

Also on Fandom

Random Wiki