Fandom

Hindi Literature

समाधिस्थ / अज्ञेय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मुझ में कुछ है
जो मेरा बिलकुल अपना है
जो है मेरे क्षीरोज्ज्वल मन के मन्थन का कोमल माखन।
जिस को मैं ने बहुत टूट कर
बहुत-बहुत अपने में रह कर
बहुत-बहुत सह कर पाया है-
जिस को अहरह दुलराया है।
गद्गद चिन्तन, आराधन, एकान्त समर्पण की घड़ियों में
वही-वही है : मेरा आश्रय, मेरा आत्मज, पूर्णभूत मैं।
जिस को स्वर में, लय में, शत चित्रों में,
शत-शत संकेतों में तुम को देना चाह रहा हूँ।
पर वह मेरी लब्धि
-शायद सागर-तटवासी अचल कपिल वह-

समाधिस्थ है :
कोंच रहे हैं उसको रह-रह
मेरे व्याकुल यत्न सहस्त्र-सहस्त्र सगर पुत्रों से सज्जित
(इस भय को भी भूल कि निश्चय भस्म सभी ये हो जायेंगे
जब उस की समाधि टूटेगी)
-कोंच रहे हैं : पर वह स्थिर है।
-जगा रहे हैं अनुक्षण : पर वह स्थिर है।
कब जागेगा-कब जागेगा
यह दर्पण-गिरि-गुहा निवासी ?
कब तुरीय त्यागेगा-
यह अन्तस्थ, अचल संन्यासी ?

Also on Fandom

Random Wiki