FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


इततें राधा जाति जमुन-तट, उततैं हरि आवत घर कौं ।

कटि काछनी, वेष नटवर कौ, बीच मिली मुरलीधर कौं ॥

चितै रही मुख-इंदु मनोहर, वा छबि पर वारति तन कौं ।

दूरहु तै देखत ही जाने, प्राननाथ सुंदर घन कौं ॥

रोम पुलक, गदगद बानी कही, कहाँ जात चोरे मन कौं ।

सूरदास-प्रभु चोरन सीखे, माखन तैं चित-बित-धन कौं ॥1॥


भुजा पकरि ठाढ़े हरि कीन्हे ।

बाँह मरोरि जाहुगे कैसै, मै, तुम नीकैं चीन्है ॥

माखन-चोरी करत रहे तुम, अब भए मन के चोर ।

सुनत रही मन चोरत हैं हरि, प्रगट लियौ मन मोर ॥

ऐसे ढीठ भए तुम डोलत, निदरे ब्रज की नारि ।

सूर स्याम मोहूँ निदरौगे, देहुँ प्रेम की गारि ॥2॥



यह बल केतिक जादौ राइ ।

तुम जु तमकि कै मो अबला सौं, चले बाँह छुटकाइ ॥

कहियत हो अति चतुर सकल अंग, आवत बहुत उपाइ ।

तौ जानौं जौ अब एकौ छन, सकौ हृदय तैं जाइ ॥


सूरदास स्वामी श्रीपति कौं, भावति अंतर भाइ ।

सहि न सके रति-बचन, उलटि हँसि लीन्ही कंठ लगाइ ॥3॥



कुल की लाज अकाज कियौ ।

तुम बिन स्याम सुहात नहीं कछु, कहा करौं अति जरत हियौ ॥

आपु गुप्त करि राखी मोकौं, मैं आयसु सिर मानि लियौ ।

देह-गेह-सुधि रहति बिसारे, तुम तैं हितु नहिं और बियौ ॥

अब मोकौं चरननि तर राखौ, हँसि नँदनंदन अंग छियौ ।

सूर स्याम श्रीमुख की बानी, तुम पैं प्यारी बसत जियौ ॥4॥


मातु पिता अति त्रास दिखावत।

भ्राता मोहिं मारन कौं घिरवै, देखैं मोहिं न भावत ।

जननी कहति बड़े की बेटी, तोकौं लाज न आवति ॥

पिता कहे कैसी कुल उपजी, मनहीं मन रिस पावति ॥

भगिनी देख देति मोहिं गारी, काहैं कुलहिं लजावति ।

सूरदास-प्रभु सौं यह कहि-कहि, अपनी बिपति जनावति ॥5॥


सुंदर स्याम कमल-दल-लोचन ।

विमुख जननि की संगति कौ दुख, कब धौं करिहौ मोचन ॥

भवन मोहिं भाठी सौ लागत, मरति सोचहीं सोचन ।

ऐसी गति मेरी तुम आगैं, करत कहा जिय दोचन ॥

धिक वै मातु-पिता, धिक भ्राता, देत रहत मोहिं खोंचन ॥

सूर स्याम मन तुमहिं लगान्यौ, हरद-चून-रँग-रोचन ॥6॥


कुल की कानि कहा लगि करिहौं ।

तुम आगैं मैं कहौं जु साँची, अब काहू नहिं डरिहौं ॥

लोग कुटुंब जग के जे कहियत, पेला सबहिं निदरिहौं ।

अब यह दुख सहि जात न मोपैं, बिमुख बचन सुनि मरिहौं ॥

आप सुखी तौ सब नीके हैं, उनके सुख कह सरिहौं ।

सूरदास प्रभु चतुरसिरोमनि , अबकै हौं कछु लरिहौं ॥7॥


प्राननाथ हो मेरी सुरति किन करौ ।

मैं जु दुख पावति हौं, दीनदयाल, कृपा करौ, मेरौ कामदंद-दुख औ बिरह हरौ ॥

तुम बहु रमनी रमन सो तो जानति हौं, याही के जु धौखैं हौ मौसौं कहैं लरो ।

सूरदास-स्वामी तुम हौ अंतरजामी सुनी मनसा बाचा मैं ध्यान तुम्हरौई धरौं ॥8॥


हौं या माया ही लागी तुम कत तोरत ।

मेरौ तौ जिय तिहारे चरनि ही मैं लाग्यौ, धीरज क्यौं रहै रावरे मुख मोरत ॥

कोऊ लै बनाइ बातैं, मिलवति तुम आगैं, सोई किन आइ मोसौं अब है जोरत ।

सूरदास-पिय, मेरे तौ तुमहिं हो जु जिय, तुम बिनु देखैं मेरौ हियौ ककोरत ॥9॥



बिहँसि राधा कृष्न अंक लीन्ही ॥

अधर सौं अधर जुरि, नैन सौं नैन मिलि हृदय सौं हृदय लगि, हरष कीन्ही ॥

कंठ भुज-भुज जोरि, उछंग लीन्ही नारि, भुवन-दुख टारि, सुख दियौ भारी ।

हरषि बोले स्याम, कुञ्ज-बन-घन-घाम, तहाँ हम तुम संग मिलैं प्यारी ।

जाहु गृह परम धन, हमहुँ जैहैं सदन, आइ कहुँ पास मोहिं सैन दैही ।

सूर यह भाव दै, तुरतहीं गवन करि, कुंज-गृह सदन तुम जाइ रैहौ ॥10॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki