Fandom

Hindi Literature

साँस / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

आदमी और जानवर

हर एक प्राणी

लेता है साँस ,लेकिन

इनके अलावा

ऐसा बहुत कुछ है

इस नाशवान् दुनिया में

जो साँस लेता है

दिल बनकर धड़कता है ।

वह मकान

जो अब घर बन गया है,

इसकी धड़कन मैं सुन सकता हूँ ।

मेरा आँगन , मेरा बगीचा

साँस ही नहीं लेते

मुस्कराते भी हैं ।

मैं जब कई दिनों बाद लौटता हूँ

सबको उदास पाता हूँ

मुझे देखते ही ये सब

बिखेरने लगते हैं मुस्कान

जो तैर जाती है

हर कोने में ।

मुझे छू जाती है

इनकी सुगन्ध भरी साँसें

दिलकश मुस्कान ।

Also on Fandom

Random Wiki