Fandom

Hindi Literature

सिखवति चलन जसोदा मैया / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल


सिखवति चलन जसोदा मैया ।
अरबराइ कर पानि गहावत, डगमगाइ धरनी धरै पैया ॥
कबहुँक सुंदर बदन बिलोकति, उर आनँद भरि लेति बलैया ।
कबहुँक कुल देवता मनावति, चिरजीवहु मेरौ कुँवर कन्हैया ॥
कबहुँक बल कौं टेरि बुलावति, इहिं आँगन खेलौ दोउ भैया ।
सूरदास स्वामी की लीला, अति प्रताप बिलसत नँदरैया ॥

भावार्थ :-- माता यशोदा (श्याम को) चलना सिखा रही हैं । जब वे लड़खड़ाने लगते हैं,तब उसके हाथों में अपना हाथ पकड़ा देती हैं, डगमगाते चरण वे पृथ्वी पर रखते हैं । कभी उनका सुन्दर मुख देखकर माता का हृदय आनन्द से पूर्ण हो जाता है वे बलैया लेने लगती हैं । कभी कुल-देवता मनाने लगती हैं कि `मेरा कुँवर कन्हाई चिरजीवी हो ।' कभी पुकार कर बलराम को बुलाती हैं (और कहती हैं-) `दोनों भाई इसी आँगन में मेरे सामने खेलो । `सूरदास जी कहते हैं कि मेरे स्वामी की यह लीला है की श्रीनन्दराय जी का प्रताप और वैभव अत्यन्त बढ़ गया है ।

Also on Fandom

Random Wiki