Fandom

Hindi Literature

सुदामा चरित / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


कंत सिधारी मधुसूदन पै सुनियत हैं वे मीत तुम्हारे ।
बाल सखा अरु बिपति बिभंजन, संकट हरन मुकुंद मुरारे ॥
और जु अतुसय प्रीति देखियै, निज तन मन की प्रीति बिसारे ।
सरबस रीझि देत भक्तनि खौं, रंक नृपति काहूँ न बिचारे ॥
जद्यपि तुम संतोष भजत हौ, दरसन सुख तैं होत जु न्यारे ।
सूरदास प्रभु मिले सुदामा, सब सुख दै पुनि अटल न टारे ॥1॥

सुदामा सोचत पंथ चले ।
कैसे करि मिलिहैं मोहिं श्रीपति, भए तब सगुन भले ॥
पहुँच्यौ जाइ राजद्वारे पर, काहूँ नहिं अटकायौ ।
इत उत चितै धस्यौ मंदिर मैं, हरि कौ दरसन पायौ ।
मन मैं अति आनंद कियौ हरि, बाल-मीत पहिचान ।
धाए मिलन नगन पग आतुर, सूरजप्रभु भगवान ॥2॥

दूरिहिं तैं देख्यौ बलवीर ।
अपने बालसखा जु सुदामा, मलिन बसन अरु छीन सरीर ॥
पौढ़े हे परजंक परम रुचि ,रुकमिनि चैरि डुलावति तीर ।
उठि अकुलाइ अगमने लीन्हें, मिलत नैन भरि आए नीर ॥
निज आसन बैठारि स्याम-धन, पूछी कुसल कह्यौ मति धीर ।
ल्याए हौ सु देहु किन हमकौं, कहा दुरावन लागै चीर ॥
दरस परस हम भए सभाग, रही न मन मैं एकहु पीर ।
सूर सुमति तंदुल चाबत ही, कर पकर्यौ कमला भई धीर ॥3॥

ऐसी प्रीति की बलि जाउँ ॥
सिंहासन तजि चले मिलन कौं, सुनत सुदामा नाउँ ॥
कर जोरे हरि बिप्र जानि कै, हित करि चरन पखारे ।
अंकमाल दै मिले सुदामा , अर्धासन बैठारे ॥
अर्धंगी पूछति मोहन सौं, कैसे हितू तुम्हारे ।
तन अति छीन मलीन देखियत, पाउँ कहाँ तैं धारे ॥
संदीपन कैं हमऽरु सुदामा, पढ़े एक चटसार ।
सूर स्याम की कौन चलावै, भक्तनि कृपा अपार ॥4॥

गुरु-गृह हम जब बन कौं जात ।
जोरत हमरे बदलैं लकरी, सहि सब दुख निज गात ॥
एक दिवस बरषा भई बन मैं, रहि गए ताहीं ठौर ।
इनकी कृपा भयौ नहिं मोहिं श्रम, गुरु आए भऐं भोर ॥
सो दिन मोहिं बिसरत न सुदामा, जो कीन्हौ उपकार ।
प्रति उपकार कहा करौं सूरज, भाषत आप मुरार ॥5॥

सुदामा गृह कौं गमन कियौ ।
प्रगट बिप्र कौं कछु न जनायौ, मन मैं बहुत दियौ ॥
वेई चीर कुचील वहै बिधि, मोकौं कहा भयौ ।
धरिहौं कहा जाय तिय आगैं, भरि भरि लेत हियौ ॥
सो संतोष मानि मन हीं मन, आदर बहुत लियौ ।
सूरदास कीन्हे करनी बिनु, को पतियाइ बियौ ॥6॥

सुदामा मंदिर देखि डर्यौ ।
इहाँ हुती मेरी तनक मड़ैया, को नृप आनि छर्यौ ॥
सीस धुनै दोऊ कर मींड़ै, अंतर सोच पर्यौ ।
ठाढ़ी तिया जु मारग जोवै, ऊँचैं चरन धर्यौ ॥
तोहिं आदर्यौ त्रिभुवन कौ नायक, अब क्यों जात फिर्यौ ।
सूरदास प्रभु की यह लीला, दारिद दुःख हर्यौ ॥7॥

हौं फिरि बहुरि द्वारिका आयौ ।
समुझि न परी मोहिं मारग की, कोउ बूझौ न बतायो ।
कहिहैं स्याम सत इन छाँड़यौ, उतौ राँक ललचायौ ।
तृन की छाँह मिटी निधि माँगत , कौन दुखनि सौं छायौ ॥
सागर नहीं समीप कुमति कैं, बिधि कह अंत भ्रमायौ ।
चितवत चित्त बिचारत मेरी, मन सपनैं डर छायौ ॥
सुरतरु, दासी,दास, अस्व, गज, बिभौ बिनोद बनायौ ।
सूरज प्रभु नँद-सुवन मित्र ह्वै, भक्तनि लाड़ लड़ायौ ॥8॥

कहा भयौ मेरो गृह माटी कौ ।
हौं तो गयौ गुपालहिं भेंटन, और खरच तंदुल गाँठी कौ ॥
बिनु ग्रीवा कल सुभग न आन्यौ, हुतौ कमंडल दृढ़ काठी कौ ।
घुनौ बाँस जुत बुनो खटोला, काहु कौ पलँग कनक पाटी कौ ॥
नूतन छीरोदक जुवती पै, भूषन हुतौ न लोहह माटी कौ ।
सूरदास प्रभु कहा निहोरौ, मानत रंक त्रास टाटी कौ ॥9॥

भूलौ द्विज देखत अपनौ घर ।
औरहिं भाँति रचौ रचना रुचि , देखतही उपज्यौ हिरदै डर ॥
कै वह ठौर छुड़ाइ लियौ किहूँ, कोऊ आइ बस्यौ समरथ नर ।
कै हौं भूलि अनतहीं आयौ, यह कैलास जहाँ सुनियत हर ॥
बुध-जन कहत द्रुबल घातक विधि, सो हम आजु लही या पटतर
। ज्यौं निलिनी बन छाँड़ि बसै जल, दाहै हेम जहाँ पानी-सर ॥
पाछै तैं तिय उतरि कह्यौ पति, चलिए द्वार गह्यौ कर सौं कर ।
सूरदास यह सब हित हरि को, द्वारैं, आइ भयौ जु कलपतर ॥10॥

कैसैं मिले पिय स्याम सँघाती ।
कहियै कत कौन बिधि परसे, बसन कुचील छीन अति गाती ॥
उठिकै दौरि अंक भरि लीन्हौ, मिलि पूछी इत-उत कुसलाती ।
पटतैं छोरि लिए कर तंदुल, हरि समीप रुकमिनी जहाँ ती ॥
देखि सकल तिय स्याम-सुंदर गुन, पट दै ओट सबै मुसक्यातीं ।
सूरदास प्रभु नवनिधि दीन्ही, देते और जो तिय न रिसातीं ॥11॥

हरि बिनु कौन दरिद्र हरै ।
कहत सुदामा सुनि सुंदरि, हरि मिलन न मन बिसरै ॥
और मित्र ऐसी गति देखत, को पहिचान करै ।
पति परैं कुसलात न बूझै, बात नहीं बिचरै ॥
उठि भेंटे हरि तंदुल लीन्हें मोहिं न बचन फुरै
सूरदास लछि दई कृपा करि, टारी निधि न टरै ॥12॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki