Fandom

Hindi Literature

सूर्य-ग्रहण : 3 / अरुण कमल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


बहुत सुन्दर लगेगा सूर्य


धीरे-धीरे गिरेगा प्रकाश

और अन्त में रह जाएगी एक काली पुतली

रोशनी के वर्क़ में लिपटी,

कभी बस हीरे के नग-सा दमकता सूर्य

कभी मोतियों की माला-सा झिलमिल

कभी गरी की एक फाँक-भर उज्ज्वल

और एक क्षण को धरती पर बिछेगी

प्रकाश और अँधेरे से बुनी चटाई


बहुत सुन्दर, बहुत भव्य है ब्रह्मांड का यह दृश्य

जो लूट सके सो लूट ।


ऎसी सुन्दरता कौन काम की

जिसके देखे दीदा फूटे ?

Also on Fandom

Random Wiki