Fandom

Hindi Literature

सोइ रसना जो हरिगुन गावै / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरा


सोइ रसना जो हरिगुन गावै।

नैननि की छवि यहै चतुरता जो मुकुंद मकरंदहिं धावै॥

निर्मल चित तौ सोई सांचो कृष्ण बिना जिहिं और न भावै।

स्रवननि की जु यहै अधिकाई, सुनि हरि कथा सुधारस प्यावै॥

कर तैई जै स्यामहिं सेवैं, चरननि चलि बृन्दावन जावै।

सूरदास, जै यै बलि ताको, जो हरिजू सों प्रीति बढ़ावै॥


भावार्थ :- `हरि-परायण' होने में ही हरेक इंद्रिय की सार्थकता है, यही इस पद का सार है `नैननि की.....धावे' = नेत्रों को अप्रकट रूप से यहां भ्रमर बनाया गया है। उसी नैन रूपी मधुकर के सफल जीवन हैं, जो मुकुंदरूपी मकरंद अर्थात कृष्ण-छवि पराग का पान करने के लिए दौड़ते हैं।


शब्दार्थ :- रसना =जीभ, वाणी। छवि =शोभा। मकरंद =पराग। न भावै = अच्छा नहीं लगता है। अधिकाई = बड़ाई, सार्थकता।

Also on Fandom

Random Wiki