Fandom

Hindi Literature

सोवत नींद आइ गई स्यामहि / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिहागरौ


सोवत नींद आइ गई स्यामहि ।
महरि उठी पौढ़इ दुहुनि कौं, आपु लगी गृह कामहिं ।
बरजति है घर के लोगनि कौं, हरुऐं लै-लै नामहि ।
गाढ़े बोलि न पावत कोऊ, डर मोहन-बलरामहि ॥
सिव-सनकादि अंत नहिं पावत, ध्यावत अह-निसि-जामहिं ।
सूरदास प्रभु ब्रह्म सनातन, सो सोवत नँद-धामहिं ॥

भावार्थ :-- सोते ही श्यामसुन्दर को निद्रा आ गयी । व्रजरानी दोनों भाइयों को सुला कर उठीं और स्वयं घर के काम में लग गयीं । धीरे-धीरे नाम ले-लेकर घर के लोगों को मना करती हैं मोहन और बलराम जी के (जाग जाने के) भय से कोई जोर से बोल नहीं पाता है । सूरदास जी कहते हैं, रात-दिन प्रत्येक समय ध्यान करते हुए भी शंकर जी तथा सनकादि ऋषि जिनका अंत नहीं पाते, वे ही सनातन ब्रह्मस्वरूप मेरे स्वामी नन्दभवन में सो रहे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki