Fandom

Hindi Literature

हमारा दिल / बशीर बद्र

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

कवि: बशीर बद्र

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए ।

चराग़ों की तरह आँखें जलें, जब शाम हो जाए ।


मैं ख़ुद भी अहतियातन, उस गली से कम गुजरता हूँ,

कोई मासूम क्यों मेरे लिए, बदनाम हो जाए ।


अजब हालात थे, यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर,

मुहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए ।


समन्दर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको,

हवायें तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाए ।

मुझे मालूम है उसका ठिकाना फिर कहाँ होगा,

परिंदा आस्माँ छूने में जब नाकाम हो जाए ।


उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,

न जाने किस गली में, ज़िंदगी की शाम हो जाए ।

Also on Fandom

Random Wiki