Fandom

Hindi Literature

हरि किलकत जसुमति की कनियाँ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


राग देवगंधार

हरि किलकत जसुमति की कनियाँ ।
मुख मैं तीनि लोक दिखराए, चकित भई नँद-रनियाँ ॥
घर-घर हाथ दिवापति डोलति, बाँधति गरैं बघनियाँ ।
सूर स्याम की अद्भुत लीला नहिं जानत मुनिजनियाँ ॥

भावार्थ :-- हरि श्रीयशोदा जी की गोद में किलकारी ले रहे हैं । अपने (खुले) मुख में उन्होंने तीनों लोक दिखला दिये, जिससे श्रीनन्दरानी विस्मित हो गयीं । (कोई जादू-टोना न हो, इस शंका से) घर-घर जाकर श्याम के मस्तक पर आशीर्वाद के हाथ रखवाती घूमती हैं और गले में छोटी बघनखिया आदि बाँधती हैं । सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर की लीला ही अद्भुत है, उसे तो मुनिजन भी नहीं समझ पाते । (श्रीयशोदा जी नहीं समझतीं इसमें आश्चर्य क्या ?)

Also on Fandom

Random Wiki