Fandom

Hindi Literature

हरि कौं टेरति है नँदरानी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग नटनारायन

हरि कौं टेरति है नँदरानी ।
बहुत अबार भई कहँ खेलत, रहे मेरे सारँग-पानी ?
सुनतहिं टेर, दौरि तहँ तहँ आए,कब के निकसे लाल ।
जेंवत नहीं नंद तुम्हरे बिनु, बेगि चलौ, गोपाल ॥
स्यामहि ल्याई महरि जसोदा, तुरतहिं पाइँ पखारे ।
सूरदास प्रभु संग नंद कैं बैठे हैं दोउ बारे ॥

भावार्थ :-- श्रीनन्दरानी हरि को पुकार रही हैं --`मेरे शार्ङ्गपाणि ! बहुत देर हो गयी, तुम अब तक कहाँ खेलते थे ? लाल ! तुम कब से घर से निकले हो, तुम्हारे बिना बाबा नन्द भोजन नहीं कर रहे हैं । गोपाल ! अब झटपट चलो ।' माता की पुकार सुनकर श्याम दौड़कर वहाँ आ गये । व्रजरानी यशोदा जी ने मोहन को घर ले आकर तुरंत ही उनके चरण धोये । सूरदास के स्वामी व्रजराज के दोनों बालक व्रजराज श्रीनन्द जी के साथ (भोजन करने) बैठे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki