Fandom

Hindi Literature

हस्ती अपनी होबाब की सी है / मीर तक़ी 'मीर'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER हस्ती अपनी हुबाब की सी है ।

ये नुमाइश सराब की सी है ।।


नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए,

हर एक पंखुड़ी गुलाब की सी है ।


चश्मे-दिल खोल इस भी आलम पर,

याँ की औक़ात ख़्वाब की सी है ।


बार-बार उस के दर पे जाता हूँ,

हालत अब इज्तेराब की सी है ।


मैं जो बोला कहा के ये आवाज़,

उसी ख़ाना ख़राब की सी है ।


‘मीर’ उन नीमबाज़ आँखों में,

सारी मस्ती शराब की सी है ।

Also on Fandom

Random Wiki